Shri. Justice Dipak Misra Sworn in as the Chief Justice of the Supreme Court of India-28-8-17

1642191151 maxresdefault.jpg
1642191151 maxresdefault.jpg



Shri. Justice Dipak Misra was sworn in as the Chief Justice of the Supreme Court of India at Rashtrapati Bhavan.

Follow The President of India:
►Twitter: https://twitter.com/rashtrapatibhvn
►Facebook: https://www.facebook.com/PresidentOfIndia/
►Instagram: https://www.instagram.com/presidentofindia/
►Subscribe to channel: https://www.youtube.com/presidentofindia
►Website: http://presidentofindia.nic.in/

source – If Video Not Display Click Here

Responses (41)

  1. A smart phone with an incarnation of space from space to space Human beings are the ones who show the way with good foresight What can be harvested is what can be harvested What can not be harvested Gas is the only fuel that can be cultivated for the betterment of future generations.The government is the lifeblood of the caste system that protects the caste system The feature is protection, the purification is the letter, the possible is all Dasoh

  2. Go VEGAN 🌱 Sulae Makla.
    Watch these below Documentaries to know more about VEGAN.
    1. Dominion
    2. Earthlings
    3. Cowspiracy
    4. Game Changers
    5. Forkes over Knives
    6. What the Health
    7. Seaspiracy
    8. The End of Meat
    9. Eating you Alive
    10. H.O.P.E . . …..

  3. I want To be Chief Justice of the Supreme Court of India after studying in
    Harvard law school
    Stanford law school
    Oxford law school
    IISC
    IIM
    And then aftermath post retirement I will be going to icj

  4. सर मेरा आपसे एक सवाल है मेरा उनसे सवाल है जिन्होंने कानून बनाए हैं महिलाओं की सुरक्षा के लिए सर जब एक महिला ससुराल द्वारा प्रताड़ित की जाती है महिला को शारीरिक मानसिक आर्थिक प्रताड़ना दी जाती है महिला ससुराल द्वारा निकाल दी जाती है महिला को न्याय पाने के लिए कोर्ट जाना पड़ता है पीड़ित महिला जो ससुराल द्वारा बाहर निकाल दी गई है उसको जो उसके माता-पिता से सामान मिलता है वह भी वहां रह गया है और माता-पिता की कंडीशन खराब हो गई हो ऐसे में वह कोर्ट तक न्याय पाने के लिए कैसे जाएगी जिसके पास खुद के भरण-पोषण के लिए पैसे ना हो क्योंकि सर कोर्ट तक आने जाने में बहुत पैसे खर्च होते हैं क्या वह पीड़ित महिला बिना न्याय के रह जाए या गरीब महिलाओं को न्याय का अधिकार नहीं है अगर कोई महिला कोर्ट चली भी जाती है न्याय पाने के लिए अपने अधिकार पाने के लिए तो उनका कोई समय नहीं है केस को 1 से 10 साल तक लग जाते हैं और कोई सहायता नहीं मिलती है गुजारा भत्ता महिलाओं के लिए बनाया गया है लेकिन उसका फायदा महिलाओं को नहीं मिलता उससे ज्यादा उनके पैसे खर्च हो जाते हैं इतने समय के बाद भरण पोषण मिले या ना भी मिले कोई जरूरी नहीं है ससुराल से निकाली गई महिला इतने समय तक अपना भरण-पोषण कैसे करें या उसको आत्महत्या कर लेनी चाहिए सर मैं आपसे हाथ जोड़कर क्षमा मांगती हूं अगर मैंने कोई शब्द गलत लिख दिए हैं उसके लिए मुझे क्षमा कीजिएगा सर मैं अपने सवालों के जवाब चाहती हूं कृपया करके मेरी मदद करें🙏🙏

  5. Namaskar sir main Komal Jo Sasural wale bahut tang Karte Hain aur marpit Bhi Karte Hain Dahej bhi mangte hain main Garib ladki aur Mata Pita bhi Garib hai please Sar Hamari madad karo please

Comments are closed.